12 साल बाद लगभग समय पर बिहार पहुंचा मानसून, 18 तक पूरे प्रदेश में छाएगा

1 min read

12 साल के बाद बिहार में मानसून वफादार निकला। भागलपुर में हुई बारिश के बाद माैसम विभाग ने शनिवार काे बिहार में मानसून के दस्तक देने की घोषणा कर दी। फिलहाल बिहार में मानसून के कवर हाेने के लिए सिस्टम बना हुआ है। अगले 24 से 30 घंटाें में पटना व इससे सटे जिलाें के साथ ही बिहार के नाॅर्थ ईस्ट के जिलाें सुपाैल, अररिया, किशनगंज, मधेपुरा, पूर्णिया, सहरसा जिलाें में मानसून की बाैछार हाेगी। पटना में भी सिस्टम बना हुआ है। बूंदा-बांदी हुई है। इससे पहले 2008 में मानसून ने 9 जून काे दस्तक दिया था। अगले तीन दिनाें तक बिहार के 38 जिलाें में कहीं-कहीं गरज के साथ कहीं हल्की ताे कहीं भारी बारिश काे लेकर चेतवानी दी गई है। पटना माैसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विवेक सिन्हा ने कहा कि बिहार में मानसून ने शनिवार काे दस्तक दे दी है। 18 जून या इससे पहले तक पूरे बिहार में मानसून कवर हाे जाएगा। विवेक के अनुसार 8 अक्टूबर काे बिहार से मानसून विदा हाे जाने की संभावना है। इस साल बिहार में सामान्य बारिश हाेने की पूरी उम्मीद है। बिहार में नाॅर्मल रेन 1017 एमएम हाेती है। फिलहाल जाे संकेत मिले रहे हैं, उसमें अलनिनाें का मानसून पर प्रभाव नहीं पड़ेगा।
2002 से 2019 तक चार बार ही सही वक्त पर मानसून
2002 से लेकर 2019 तक इन 18 सालाें में केवल चार साल ही  रहा जब मानसून ने 10-11 जून या इससे पहले दस्तक दी। 2017 से 2019 की बात करें ताे मानसून ने 20 जून के बाद दस्तक दी है।
पहले 10 जून थी आने की तिथि, 60 साल बाद बदलाव
बिहार में पहले आने की तिथि 10 जून थी। पर मानसून तय तिथि पर नहीं आ रहा था। इस साल माैसम विभाग ने 60 साल के अांकड़े को परखा, फिर तिथि में बदलाव हुआ । बिहार में 15 जून के बाद तय की है।